• Banner Title 1 28th April
bootstrap carousel by WOWSlider.com v8.7

  • View Video


    Vishnu Aarti by Shri Devkinandan Thakur Ji and Brahmrishi Kumar Swami Ji

  • View Video


    Shiva Aarti by Kailashanand Ji Maharaj and Swami Shri Rambhadracharya Ji

  • View Video


    Hanuman Aarti by Swami Govind Giri Ji Maharaj and Swami Anand Giri Ji Maharaj

  • View Video


    Krishna Aarti by Swami Shri Gyanand Ji Maharaj


View More


View More

no image
no image

Blog

Image1 Top 4 bhajans of this Month on Channel Divya
For More Bhajans, Devotional Songs, Aarti, Chalisa Click the link below & Don't forget to Subscribe #MyChannelDivya! Read more
Image1 श्री हनुमान जयंती के पावन अवसर पर जानें बजरंग बली को प्रसन्न करने के मंत्र
भगवान हनुमान का जन्मदिन हनुमान जयंती के तौर पर मनाया जाता है. यह दिन चैत्र शुक्ल पक्ष पर आता है जिसे चैत्र पूर्णिमा के नाम से भी जानते हैं. ज्योतिषियों का कहना है कि 120 साल बाद यह जयंती ऐसे दिन पड़ी है, जो दुर्लभ संयोग है. Read more
Image1 शिर्डी साईं बाबा कष्ट निवारण मंत्र
सदगुरू साईं नाथ महाराज की जय Read more
Image1 राम नवमी: मर्यादा का पालन करते हुए मर्यादापुरुषोत्तम कहलाए श्रीराम
मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के जन्मदिन के सुअवसर पर चैत्र शुक्ल मास के नवमी तिथि को रामनवमी का विशेष पर्व मनाया जाता है। Read more
Image1 शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उपाय
जिस पर शनिदेव प्रसन्न हो जाएं, उसके सब कष्ट दूर हो जाते हैं। शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय इस प्रकार हैं, ये उपाय किसी भी शनिवार को कर सकते हैं- Read more
Image1 क्यों नहीं किया जाता कोई भी शुभ काम होलाष्टक के दिनों में ?
फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से लेकर होलिका दहन तक की अवधि को होलाष्टक कहा गया है। Read more
Image1 Japji Sahib Path | Guru Nanak Dev Ji | Manjit Dhyani | Channel Divya
Japji Sahib is the first sacred composition found in the Guru Granth Sahib. It is compiled by Guru Nanak Dev who is also the founder of Sikhism. In Japji Sahib Path, Guru Nanak Dev explained the truth of life. Read more
Image1 भगवान गणेश को क्यों नहीं चढ़ाते तुलसी ?
एक बार श्री गणेश गंगा किनारे तप कर रहे थे। इसी कालावधि में धर्मात्मज की नवयौवना कन्या तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर्थ यात्रा पर प्रस्थान किया। देवी तुलसी सभी तीर्थस्थलों का भ्रमण करते हुए गंगा के तट पर पंहुची.. Read more
More news from Blog